• http://www.facebook.com/AshokGehlot.Rajasthan
  • http://blog.ashokgehlot.in
  • http://www.youtube.com/user/GehlotAshok
  • https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ashokgehlot.app#?t=W251bGwsMSwyLDIxMiwiY29tLmFzaG9rZ2VobG90LmFwcCJd

जयपुर मैट्रो रेल परियोजना(प्रथम चरण) का शिलान्यास


मुख्यमंत्री के आग्रह पर केन्द्रीय मंत्री ने द्वितीय चरण की भी स्वीकृति दी

जयपुर 24 फरवरी। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री कमलनाथ ने आज मानसरोवर में जयपुर की महत्वाकांक्षी मैट्रो रेल परियोजना के प्रथम चरण चांदपोल से मानसरोवर का शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के आग्रह पर परियोजना के द्वितीय चरण अम्बाबाड़ी से सीतापुरा के कार्य को स्वीकृत करने पर सहमति दी।

श्री कमलनाथ ने कहा कि दूसरे चरण का शिलान्यास इसी वर्ष तय किया जाये। इसकी क्रियान्विति के लिए शहरी विकास मंत्रालय हर संभव सहयोग देगा। उन्होंने दिल्ली मैट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक, श्री ई.श्रीधरन से कहा कि जयपुर मैट्रो का कार्य तीन वर्ष की बजाय जल्दी से जल्दी पूरा करें।

केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री ने कहा कि आज शहरीकरण एक ऐसी चुनौती है जिसके लिए सुनियोजित योजना तैयार होनी जरूरी है। दस-बीस साल पहले गांव का नौजवान गांव में ही काम चाहता था, लेकिन आज वह सोचता है कि वह शहर में रहे। युवा पीढ़ी की दुनिया कम्प्यूटर व वेबसाईट पर निर्भर है, ऐसे में हमें युवाओं की आशाओं और आंकाक्षाओं को पहचानना होगा और उसी तर्ज पर शहरों का विकास करना होगा।

उन्होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय अरबन रिन्यूवल मिशन सात साल पूरे कर चुका है। इस अवधि में देश में अनेक परिवर्तन हुए हैं। हमें इन्हीं परिवर्तनों के आधार पर शहर एवं गांव को कैसे जोड़ना है, इस पर सोचना होगा। उन्होंने कहा कि केन्द्र अब नये नजरिए से रिन्यूवल मिशन की योजना बनायेगी। उन्होंने कहा कि नई योजनाआंे में राजस्थान के शहरों की नगर निकायों को प्राथमिकता दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि विश्व में पर्यटन के क्षेत्र में राजस्थान अपना विशिष्ट स्थान रखता है। जयपुर में मैट्रो ट्रेन आ रही है, शहरी विकास के कार्य हो रहे हैं। ऐसे में जयपुर मॉडल सिटी बने।

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि मैट्रो रेल परियोजना के शिलान्यास से परिवहन सेवाओं में एक नये इतिहास की शुरूआत हुई है। उन्होंने कहा कि मैट्रो रेल के प्रथम चरण का शिलान्यास हो चुका है जिस पर 1250 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। इस राशि में से राज्य सरकार 600 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री से मैट्रो रेल परियोजना (सीतापुरा से अम्बाबाड़ी) का कार्य शीघ्र मंजूर करने का आग्रह किया। केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री के इस आग्रह को हाथांे-हाथ स्वीकार करते हुए इसकी घोषणा समारोह में ही कर दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरीकरण के विकास के लिए राजस्थान को विशेष तव्वजो दे। उन्होंने कहा कि अधिकांश जिलों में मास्टर प्लान का कार्य शुरू हो चुका है और जयपुर के मास्टर प्लान का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। उन्होंने कहा कि शहरों के हालात बदलें और शहरी निकायों की आर्थिक स्थिति में सुधार हो जिससे वहां सिवरेज, नाली, सड़क, सफाई आदि की व्यवस्था बेहतर हो सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए जयपुर में बी.आर.टी.एस. के तहत लो-फ्लोर की 200 बसें आ चुकी हैं और 200 बसें शीघ्र ही आ जायेंगी। उन्होंने कहा कि यातायात के बढ़ते दबाव के कारण प्रत्येक वर्ष सड़क दुर्घनाएं बढ़ रही हैं जिससे 9 हजार लोगों की मृत्यु हो जाती है। उन्होंने आमजन से अपील की कि वे दुपहिया वाहन चलाते समय हैलमेट का उपयोग करंे।

शहरी विकास मंत्री श्री शांति धारीवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री की दृढ़ इच्छा शक्ति के कारण मैट्रो रेल योजना का कार्य शुरू हो सका है। उन्होंने बताया कि इस योजना के द्वितीय चरण में 24 किलोमीटर का कार्य होगा। जिस पर 7 हजार करोड़ रुपये की लागत आयेगी। उन्होंने इस कार्य के लिए भारत सरकार से धनराशि आवंटित करने का आग्रह किया। श्री धारीवाल ने नगरीय विकास एवं सौंदर्यकरण की दिशा में उठाये गये कदमों की भी जानकारी दी।

यातायात मंत्री श्री बृजकिशोर शर्मा ने बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के तहत जयपुर मे जिस तरह से बस सेवा शुरू की गई है उसी तरह जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर में भी यह सेवाएं प्रारंभ करने के लिए केन्द्र सरकार से आग्रह किया।

दिल्ली मैट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक, श्री ई.श्रीधरन ने कहा कि जयपुर में लगभग 10 किलोमीटर की मैट्रो रेल परियाजना के कार्य को कम समय में पूरा करने का लक्ष्य अपने आप में महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस प्रथम चरण के कार्य को 30 जून 2013 तक पूरा कर लिया जायेगा।

प्रमुख शासन सचिव नगरीय विकास श्री जी.एस.संधु ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि मैट्रो रेल का कार्य 20 वर्ष से लम्बित था। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने इसके लिए ऐतिहासिक निर्णय लिया।

केन्द्र सरकार के शहरी विकास सचिव श्री नवीन कुमार ने कहा कि मैट्रो रेल के लिए यह आवश्यक है कि सभी परिवहन साधनों का एक-दूसरे से लिंक हो जिससे यात्रियों को कोई दिक्कत नहीं हो। मैट्रो रेल की राजस्व आय में वृद्धि के लिए उन्होंने मैट्रो प्रोपर्टी का अधिकार देने की भी आवश्यकता जताई।

कार्यक्रम में सांसद श्री महेश जोशी और विधायक श्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी अपने विचार व्यक्त किये। महापौर श्रीमती ज्योति खण्डेलवाल ने सभी का आभार जताया।
----

Best viewed in 1024X768 screen settings with IE8 or Higher